Love Story In Hindi - लव स्टोरी

Best Love Story In Hindi | Love Story In Hindi | Sad Love Story

लव स्टोरी: दोस्तों यह Love Story In Hindi Sad ऋषि और किरण की है यह Love Story Hindi बहुत ही अच्छी है इसे पूरा पढ़े और इस Love Story को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे 

दोस्तों ऋषि को 14 साल की उम्र में ही उसको पहला प्यार ( pyaar ) हो गया था| और ऋषि उस टाइम आठवीं कक्षा में था, भले उम्र कम ही थी लेकिन इस नए ज़माने में सभी छोटी उम्र में ही अपना पहला प्यार कर बैठते हैं|

ऋषि का यह पहला प्यार उसकी क्लास में पढ़ने वाली लड़की “किरण” के साथ था| किरण अमीर घर की लड़की थी, उम्र यही कुछ 13 -14 साल की होगी और दिखने में बहुत ज्यादा सूंदर थी| किरण के पापा प्रापर्टी डीलिंग का काम किया करते थे, अच्छे खासे पैसे बनाने वाले लोग थे|

Hindi Love Story | प्यार की कहानी | New Love Stories | Kahani Love Story

Love Story In Hindi

ऋषि मन ही मन किरण को अपना दिल दे बैठा था लेकिन वह हमेशा कहने से डरता था| ऋषि के पिता जी एक स्कूल में अध्यापक थे| उनका परिवार सामान्य ही था तो डर के कारण से ऋषि कभी अपने प्यार का @इजहार ही नहीं करता था|

चलो इस pyaar के कारण @ऋषि की एक तो गन्दी @आदत सुधर गयी| ऋषि हर दिन school न जाने के अलग अलग बहाने बनाता था पर आज कल वह #टाइम से तैयार होकर चुपचाप स्कूल में चला आता था| माता पिता सोचते लड़का सुधर गया है पर बेटे का दिल तो कहीं और ही अटक चुका था|

धीरे धीरे समय ऐसे ही बीतता गया…पर ऋषि में कभी प्यार का इजहार करने की #हिम्मत नहीं हुई बस चोरी से छिपे से ही किरण को देखा करता था| लेकिन हाँ कभी कभार उन किरण और ऋषि के बिच बात भी होती थी पर पढाई के टॉपिक पर होती थी .. ऋषि अपने दिल की बात बया न कर सका |

Sad Hindi Love Story | Sad Love Story In Hindi | Sad Love Stories In Hindi | Sad Love Story Hindi

A Love Story In Hindi

फिर समय गुजरा,,आठवीं कक्षा पास की, फिर नौवीं पास की…अब वह दसवीं पास कर चुके थे लेकिन उसकी चाहत अभी भी उसके दिल में ही दबी थी|

आज स्कूल का आखिरी दिन था| ऋषि मन ही मन बहुत उदास था कि शायद अब किरण को कभी देख पायेगा क्यूंकि ऋषि के पिता जी चाहते थे कि दसवीं के बाद लड़के को को शहर में पढ़ाने भेजें|

स्कूल के आखिरी दिन सभी दोस्त एक दूसरे के साथ प्यार से गले मिल रहे थे, और अपनी यादें शेयर कर रहे थे| किरण भी अपनी दोस्तों के साथ बहुत खुश थी आज के दिन सभी एन्जॉय कर रहे थे क्यूंकि आखिरी दिन जो था लेकिन ऋषि की आँखे आँशुऔ से भरी थी।

ऋषि चुपचाप से क्लास में गया और किरण के बैग से उसका school identity card निकाल लिया| क्यूंकि उस कार्ड पर किरण की प्यारी सी फोटो लगी थी| ऋषि ने सोचा कि किरण की इसी फोटो को देखकर मैं अपने प्यार को #याद किया करूंगा|

Love Sad Story In Hindi | Lovely Sad Story In Hindi | Hindi Love Story | A Love Story In Hindi | Best Hindi Love Story | Love Story Kahani

बैंक से Loan लेकर पिता जी ने ऋषि को शहर पढ़ने भेज दिया| किरण के पिता जी ने भी किसी दूसरे 🌆 शहर में अपना बड़ा 🏠मकान बना लिया और वही शिफ्ट हो गए| @ऋषि अब हमेशा के लिए किरण से जुदा हो चुका था|

और समय अपनी रफ़्तार से बीतता चला गया,, ऋषि ने अपनी पढाई पूरी करली और अब वह एक बड़ी कम्पनी में जॉब भी करने लगा था, उसकी अच्छी तनख्वाह भी थी पर जिंदगी में एक कमी हमेशा ही खलती थी – वो थी किरण। लाख प्रयासौं  के बाद भी ऋषि फिर कभी किरण से मिल नहीं सका था|

फिर उसके घर वालों ने ऋषि की @शादी एक सुन्दर लड़की से कर दी और संयोग से उस सूंदर लड़की का नाम भी किरण ही था| ऋषि जब भी अपनी पत्नी को किरण नाम से पुकारता उसके दिल की धड़कन तेज हो जाती थी| और आखों के सामने बचपन की तस्वीरें #उभर आया करतीं थी| ऋषि ने अपनी पत्नी को कभी इस बात का @अहसास ना होने दिया था लेकिन आज भी वह किरण से सच्चा प्यार करता था|

एक @दिन ऋषि कुछ फाइल्स ढूंढ रहा था कि अचानक उसे किरण का वह बचपन का school Identity Card मिल गया| उस पर छपे किरण के प्यारे से 💃चेहरे को देखकर ऋषि @भावुक हो उठा कि तभी अचानक पत्नी अंदर आ गयी और किरण ने भी वह @फोटो देख ली|

प्यार की कहानी | Love Story Kahani | हिंदी लव स्टोरी | New Best Hindi Love Story | Love Story In Hindi | Best Hindi Love Story | A Love Story In Hindi | Love Story

किरण  – कौन है यह? जरा यह फोटो मुझे भी दिखाओ

ऋषि –  कुछ नहीं, ये ऐसे ही स्कूल में दोस्त थी

किरण – अरे ये क्या यह तो मेरी ही @फोटो है, ये मेरा बचपन का स्कूल फोटो है,, देखो ये लिखा “सरस्वती विद्या स्कूल” यहीं तो पढ़ी हुयी हु मैं। 

ऋषि यह जान ख़ुशी से @पागल सा हो गया – क्या यह तुम्हारी ही फोटो है ? मैं इस लड़की से बचपन से ही बहुत ज्यादा प्यार करता हूँ

फिर किरण ने ऋषि को अपनी पर्सनल डायरी दिखाई जिसमे नीलम की कई बचपन की फोटो लगीं हुयी थीं| ऋषि की पत्नी ही वास्तव में वही किरण थी जिसे वह बचपन से ही प्यार किया करता था|

किरण ने ऋषि के @आंसू पौंछे और उसे प्यार से अपने गले लगा लिया क्यूंकि वह शादी के बाद से नहीं बल्कि बचपन से ही उसको प्यार करने वाला था|

ऋषि बार बार हाथ जोड़ भगवान् का @शुक्रिया अदा कर रहा था!!

दोस्तों वो कहते हैं ना कि @प्यार अगर सच्चा हो तो एक न एक दिन रंग लाता ही है| ठीक वही हुआ ऋषि और किरण के साथ भी..

Thanks for reading Love Story In Hindi